हम आपको अपनी वेबसाइट पर यथासंभव सबसे अच्छा अनुभव देने के लिए कुकीज़ का इस्तेमाल करते हैं। इस साइट को ब्राउज करना जारी रख कर, आप कुकीज का इस्तेमाल किए जाने की सहमति देते हैं। अपनी वरीयताओं को संसोधित करने के तरीके सहित, अधिक विवरण के लिए, कृपया यह दस्तावेज पढ़ें - गोपनीयता नीति।
अधिक जानकारी स्वीकार करें

निवेश का अर्थ - शुरुआती के लिए एक सहज गाइड

सितंबर 09, 2020 17:50 UTC
Reading time: 41 मिनट

अपने धन की वृद्धि कौन नहीं चाहता, है ना?

परिवार के साथ छुट्टीययां मनाना, नई गाड़ी में घूमना या अपने सेवानिवृत्ति की योजना बनाना - हर आदमी अपने तरीके से अपना कमाए हुए पैसे का आनंद लेना चाहता है। परियोजना जो भी हो, अपने धन को निवेश कर उसको बढ़ाने की उम्मीद सभी करते हैं।

लेकिन सही जगह पर अपने पैसे को बुद्धिमामत्ता से निवेश करना आसान नहीं है, खाशकर अगर कोइ एक शुरुआती निवेशक हो तो। यह पता लगाना कि निवेश कहां से शुरू करना है एक चुनौती हो सकती है। बाजार मे बहुत सारे पूंजी निवेश के विकल्प उपलब्ध हैं, जो किसी को भी उलझन में डाल सकता है।

निवेश

Nivesh के बारे में यह लेख खास कर बनायीं गयी है ता की कोई भी निवेशक इन्वेस्टिंग के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर सकें।

इस लेख में चर्चा किये गए विषय है:

  1. निवेश meaning
  2. निवेश विकल्प
  3. आपको पैसा निवेश क्यूं करना चाहिए?
  4. चक्रवृद्धि रिटर्न की शक्ति
  5. कितने पैसे से निवेश शुरू करना चाहिए?
  6. आपको कब निवेश करना शुरू करना चाहिए?
  7. शुरुवाती niveshak के लिए निवेश कैसे शुरू करें?
  8. Paisa Invest Kaha Kare - शेयर, ईटीएफ, फोरेक्स, क्रिप्टोकरेंसी, कमोडिटी, बॉन्ड, अचल संपत्ति (रियल एस्टेट)
  9. Nivesh ब्रोकर चुनते समय देखने योग्य बातें
  10. ७ Investment Tips In Hindi

⭕ निवेश Meaning

सबसे पहला प्रश्न जो हर कोई पूछता है वो है निवेश का अर्थ क्या होता है?

सहज भाषा मे बोला जाये तो निवेश केवल आपके धन को एक संपत्ति में डालना है, ता की वो आय कर सके या मूल्य में बढ़ सके।

उदाहरण के रूप में, रियल एस्टेट को लेते हैं। यदि आप किराए पर देने के इरादे से घर खरीदते हैं, तो यह एक आय पैदा करने वाली संपत्ति है। यदि आप पुनर्निर्मित करने और उच्च कीमत के लिए बेचने के इरादे से एक घर खरीदते हैं, तो आपके संपत्ति को मूल्य में सराहना मिलेगी।

वैसे ही शेयरों में निवेश कीया जा सकता है। एक शेयर एक कंपनी का एक छोटा सा टुकड़ा है। यदि कंपनी शेयरधारकों को लाभांश का भुगतान करती है, तो यह निवेश आय का एक रूप है। अगर कंपनी के शेयर की कीमत बढ़ने के बाद आप अपने शेयरों को बेचते हैं तो आप मुनाफा कमाएंगे।

निवेश शुरू करें

⭕ निवेश विकल्प

निवेश का अर्थ के बाद चलिए अब बात करते है आप किस चीज में निवेश कर सकते हैं?
दुनिया में अनगिनत निवेश विकल्प है। उनमेसे कुछ लोकप्रिय हैं:

✔️ शेयर

✔️ इंडेक्स फंड्स और ईटीएफ

✔️ बॉन्ड्

✔️ कमोडिटीज या वस्तुएं

✔️ फोरेक्स या विदेशी मुद्रा

✔️ क्रिप्टोकरेंसी

✔️ रियल एस्टेट

✔️ इत्यादि

⭕ आपको पैसा निवेश क्यूं करना चाहिए?

अब जब हमने निवेश की परिभाषा समझ ली है, आइये देखते हैं के पैसा निवेश करना ज़रूरी क्यूं है।

कोई भी शुरुआती के लिए निवेश का विषय आमतौर पर इस सवाल से शुरू होता है - आखिर निवेश क्यों करें? इसका सीधा जवाब है आपकी दौलत का निर्माण करने के लिए।

हम में से अधिकांश ने देखा है कि कीमतें समान नहीं रहते हैं। एक समय था जब दूध की कीमत थी सिर्क ५ पैसा प्रति लीटर थी। आज देखिये वो कहा पर है। यह मुद्रास्फीति है - वह दर जिस पर समय के साथ वस्तुओं और सेवाओं की कीमत बढ़ती है।

इसका अर्थ है कि आपके बैंक खाते में नकदी का मूल्य समय के साथ घटता जाता है। और यही सबसे बड़ी चुनौती है। आज ₹ १०० के साथ आप जो खरीद सकते हैं, आज से ५० साल पहले उसका मूल्य काफी काम थी। इसका मतलब आपके बटुए मे जो ₹ १०० है वो आज से ५० वर्ष पहले ज़्यादा सामान ला सकता था।

निवेश या इन्वेस्टिंग का लाभ यह है कि आप मुद्रास्फीति की दर की तुलना में अधिक लाभ कमा सकते हैं।

दुर्भाग्य से, अधिकांश बैंक खाते आज ज़्यादा ब्याज नहीं देते हैं। इसलिए जब आप अपने पैसे का निवेश कर रहे हैं, तो आपको इसे ऐसे उपक्रमों में रखना चाहिए जो आपके धन को बढ़ने के लिए उच्च दरों की वापसी की क्षमता प्रदान करें। और वो भी अधिक समय तक।

निवेश क्यूं करना चाहिए?
निवेश करना ज़रूरी है क्यूंकि अगर आप अपने धन को सिर्फ नकद में रखते हैं तो आपका धन कभी भी बढ़ने का मौका नहीं पायेगा।


⭕ चक्रवृद्धि वापसी की शक्ति - निवेश Meaning

तो अब देखते है के निवेश प्रक्रिया क्या है।

प्रत्येक निवेश में वापसी की दर होती है, जो वो दर है जिसके अनुसार समय के साथ आपका निवेश में वृद्धि होती है।

उदाहरण के लिए, मन लें की एक बचत खाता प्रति वर्ष ४% ब्याज का भुगतान कर सकता है। इसका मतलब है कि यदि आप ₹ १०,००० उस खाते में डालते हैं, तो एक वर्ष में आप ₹ ४०० की वापसी अर्जित करेंगे, जिससे आपका कुल निवेश ₹ १०,४०० तक पहुंच जाएगा।

यदि आप अगले वर्ष वो पैसा बैंक खाते में ही रखते हैं, तो आप अगले वर्ष फिरसे ४% कमायेंगे। लेकिन, क्योंकि दूसरे वर्ष के लिए आपका शुरुआती शेष ₹ १०,४०० है, इसलिए ४% ब्याज ₹४१६ होगा। यह आपके कुल खाते की राशि ₹४०,८१६ तक लाएगा।

हर साल आप अपने बढ़ते खाते के शेष पर ब्याज अर्जित करना जारी रखेंगे।

दूसरी ओर, मन लें की शेयर बाजार में सालाना ८% की वृद्धि हो सकती है। इसका मतलब है कि यदि आपने शेयर बाजार में ₹ १०,००० का निवेश किया है, तो एक वर्ष में आपके निवेश का मूल्य ₹ १०,८०० होगा।

यदि आपने एक और वर्ष के लिए निवेश में अपना पैसा छोड़ दिया, तो आप एक और ८% कमाएंगे। क्योंकि आपका निवेश अब ₹ १०,८०० है, तो ८% के हिसाब से आपको दूसरी वर्ष ₹ ८६४ मिलेगा। तो आपका पैसा कुल में ₹ ११,६६४ तक पहुंचेगा। १० साल बाद, आपके पास ₹ २१,५८९.२५ होगा, भले ही आपने अतिरिक्त धनराशि के साथ अपने निवेश को कभी नहीं बढ़ाया हो।

यदि आप एक हर महीन इस निवेश में ₹ ५०० डालते रहते हैं, तो १० वर्षों में आपके पास ₹ १११,६५१.३९ होगा!

✳️ बचत बनाम निवेश

बचत और निवेश का एक सबसे बड़ा लाभ चक्रवृद्धि वापसी (या आपके वापसी के ऊपर वापसी) अर्जित करने की क्षमता है। समय के साथ वापसी की दर जितनी अधिक होगी, उतनी ही तेजी से आपका निवेश बढ़ेगा।

बचत और सक्रिय रूप से निवेश करने के बीच सबसे बड़ा अंतर यह है कि निवेश समय के साथ वापसी कमाता है, यह मानते हुए कि आप अच्छे जोखिम प्रबंधन और धन प्रबंधन प्रथाओं का उपयोग कर रहे हैं।

जैसा कि नाम से पता चलता है, एक बचत खाता आपके बूढ़े दिनों के लिए पैसे बचाने में मदद करने के लिए है। दूसरी ओर, निवेश आपके धन को कई निवेश वाहनों में डालकर विकसित करने की कोशिश पर केंद्रित है।

ऐसे कई निवेश वाहन हैं जो आप अपने धन को बढ़ाने के लिए उपयोग कर सकते हैं जिनका उल्लेख हमने ऊपर किया है। इन विकल्पों में से अधिकांश बचत खाते की तुलना में अधिक उच्च दर अर्जित करते हैं। हालांकि, यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि उसमे जोखिम के विभिन्न डिग्री भी शामिल करते हैं।

शेयर में निवेश शुरू करें

निवेश के बारे में सीखनेवाली कई सारे बातें है, और सच कहाँ जाये तो इसका कोई अंत नहीं है।

कई निवेशक यह विश्वास करते हैं के उन्हें सही समय पर बाजार में खरीदने और बेचने की जरूरत है - ताकि उनको सफलता मिल सके।

सच्चाई यह है कि बाजार चक्रों में चलते हैं। समय के साथ, उत्पादकता बढ़ती है - प्रौद्योगिकी बेहतर हो जाती है और कंपनियां अधिक कुशल हो जाती हैं।

एक ही समय में, एक नियमित ऋण चक्र होता है, जहां बाजारों में वृद्धि की अवधि का अनुभव होता है, जिसके बाद संकुचन या मंदी होती है। आम तौर पर, वृद्धि की अवधि के दौरान ब्याज दरें चरम पर होती हैं। फिर वो नीचे आते हैं और आगे की वृद्धि को प्रोत्साहित करती है और जिससे चक्र फिर से शुरू होता है।

यह चक्र हर ५-८ वर्षों में होता है। यही कारण है कि इतने सारे निवेशक महसूस करते हैं कि बाजार लगातार फलफूल रहा है फिर निचे जा रहा है - क्योंकि असल मे वही होता है!

⭕ कितने पैसे से निवेश शुरू करना चाहिए? - निवेश के तरीके

शुरुआती निवेशकों के लिए इन्वेस्टिंग पर विचार करते समय, कितना पैसा निवेश करना चाहिए यह एक महत्वपूर्ण सवाल है।

यह तीन मुख्य कारकों पर निर्भर करता है:

१. आपके वित्तीय लक्ष्य क्या है

२. आप कितना निवेश कर सकते हैं

३. आपकी जोखिम सहिष्णुता क्या है

सामान्य तौर पर, वित्तीय बाज़ारें दीर्घकालिक रूप से ऊपर जाते हैं, जिसका अर्थ है कि दीर्घकालिक लाभ किसी भी अल्पकालिक उतार-चढ़ाव से बचे रहेंगे।

आइये अब ऊपर बताये गए ३ कारकों को और गहरायी से देखते हैं

१. आपका निवेश के लक्ष्य क्या है?

सबसे पहले, अपने आप से पूछें: आपके वित्तीय लक्ष्य क्या हैं? आप क्यों निवेश कर रहे हैं? भविष्य में आपको कितने धन की आवश्यकता होगी और कब ?

निवेश का अर्थ क्या होता है जानने के बाद लोग विभिन्न कारणों से निवेश करते हैं। कुछ सामान्य लक्ष्यों में शामिल हैं:

✔️ घर या गाड़ी खरीदने के लिए
✔️ अपने बच्चे की विश्वविद्यालय शिक्षा के लिए
✔️ एक व्यवसा को बढ़ाने के लिए
✔️ अपनी सेवानिवृत्ति के लिए
✔️ इत्यादि

आम तौर से अधिकांश लोग सेवानिवृत्ति को ध्यान में रखते हुए निवेश करते हैं। कई पश्चिमी देशों में रिटायर होने के बाद लोगों के लिए पेंशन योजना है, या आप कोई पेंशन फण्ड मे अपना पैसा लगा सकते हैं, लेकिन मुद्रास्फीति के कारण ये योजनाएं कम आकर्षक होती जा रही हैं। लेकिन भारत में ऐसी कोई योजना नहीं है, और इसी लिए सेवानिवृत्ति को ध्यान में रखना बहुत ही महत्वपूर्ण है।
अगर आपके सेवानिवृत्ति पर कोई पेंशन उपलब्ध है, तो यह विचार करना महत्वपूर्ण है कि क्या वो आप जिस जीवन शैली में जीना चाहते हैं, उसके लिए काफी है?

इसे ध्यान में रखते हुए, यह महत्वपूर्ण है आप:

१. अपने वित्तीय लक्ष्यों को स्पष्ट करें (और उन लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए जितना पैसा लगेगा उसको भी)
२. उन लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए एक समय सीमा चुनें

एक बार जब आपके पास एक लक्ष्य और एक समय सीमा होती है, तो आप गणना कर सकते हैं कि आपको अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए पर्याप्त धनराशि निर्धारित करने के लिए प्रति माह या प्रति वर्ष (वापसी की अपेक्षित दर को ध्यान में रखते हुए) कितनी धन निवेश करने की आवश्यकता है।

कई मामलों में, लंबी अवधि के लक्ष्यों को प्राप्त करना आसान होता है। इसका कारन है चक्रवृद्धि की शक्ति (जिसकी हमने पहले चर्चा की थी)। चक्रवृद्धि की शक्ति कुछ प्रतिशत अंक लंबे समय के बाद बड़े पैमाने पर दिखाई देती है। इसलिए, विस्तारित समय और वापसी की उच्च दर दोनों संभावित रूप से आपको समान परिणाम दे सकते हैं। यही वो है जो विभिन्न लक्ष्यों के लिए निवेश को रोचक और उपयुक्त बनाता है।

२. आप कितना निवेश कर सकते हैं?

Invest in hindi समझते समय कई गुरु आपकी शुरुआती आय के ५% या १०% को शुरुआती बिंदु के रूप में निवेश करने की सलाह देते हैं। लेकिन अपने सभी पैसे का निवेश क्यों न करें, अगर इससे आपको अपने लक्ष्य तक पहुँचने में तेज़ी मिलेगी तो?

जबकि यह सुनने में अच्छा लगता है, सच्चाई यह है कि न केवल आपको दिन-प्रतिदिन के खर्चों और विलासिता के लिए उस पैसे की आवश्यकता है, बल्कि आपको आपात स्थिति के लिए अलग से धन रखने की भी आवश्यकता है। हाला की आप अतिरिक्त नकदी के लिए अपनी परिसंपत्तियों को बेच सकते हैं, लेकिन कोई भी वो करना नहीं चाहेगा। इसलिए यदि आप आपातकालीन समस्यायों के लिए एक निधि बनाएं, तो वो बेहतर रहेगा।

हर किसी का अपना शुरुवाती बिंदु होता है। किसी किसी को अपने वर्तमान खर्च करने की आदतों के आधार पर, ५-१०% असंभव लग सकता है।

इसलिए एक अच्छा प्रारंभिक बिंदु समझने के लिए अपने वर्तमान खर्च पर नज़र रखना शुरू करें ता कि आप यह जान पाएं के आप कहाँ कटौती कर सकते हैं। क्या आपके पास सदस्यताएँ हैं जिनका आप कभी उपयोग नहीं करते हैं? क्या आप घर पर खाना बनाने के बजाय, बाहर खाना खा रहे हैं? क्या आपको उन चीजों को खरीदने की आदत है, जिनकी आपको जरूरत नहीं है?

इन आदतों की पहचान करना और उन पर कटौती करना उन निधियों को मुक्त करने में मदद कर सकता है, जिन्हें आपको अपने निवेश लक्ष्यों तक पहुंचने की आवश्यकता है।

३. आप कितना निवेश जोखिम स्वीकार करने के लिए तैयार हैं?

निवेश के तरीके के बारे में चर्चा करते समय जोखिम सहिष्णुता, या जोखिम लेने की क्षमता एक बहुत ही महत्वपूर्ण बात है। यह आमतौर पर आपके वर्तमान आय, बचत, व्यय, वित्तीय दायित्वों (जैसे एक बंधक का भुगतान) जैसे कारकों पर निर्भर करता है, चाहे आपके पास वित्तीय आश्रित हों या नहीं। और क्या आपके पास उपयुक्त जीवन और स्वास्थ्य बीमा है?

एक अविवाहित आदमी जो पूरे समय काम करता है, और घर खरीदने के लिए पैसे बचा रहा है, उनका जोखिम सहिष्णुता अधिक होगी। वो खर्च कम करंगे, और वो बाकि आय निवेश करेंगे। क्यूंकि उनके पास कोई ज़िम्मेदारी नहीं हैं, तो वो बाजार ज़्यादा जोखिम लेके अपना पैसे को दाओ मे लगाने के लिए तैयार होंगे।

इसके विपरीत, अगर ऐसा कोई है जो अपने परिवार का एकमात्र कमाने वाला है उसके पास बहुत सारे वित्तीय दायित्वों होंगे। ईसका अर्थ है कि उनकी जोखिम सहिष्णुता बहुत कम होगी। उनके लिए, यह बहुत बड़ा मुद्दा है। अगर कुछ गलत हो जाता है, तो न केवल उनके पास कोई अतिरिक्त आय नहीं है, बल्कि उनकी आय के आधार पर कई लोगों का जीवन निर्भर हैं। इस कारण से, वे संभवत: कम राशि का निवेश करेंगे ताकि हमेशा कुछ आपातकालीन नकदी हाथ में रखेंगे।

निवेश की समय सीमा भी जोखिम सहिष्णुता को प्रभावित कर सकती है, जैसा कि हमने पहले चर्चा की थी। जबकि वित्तीय बाजार समय के साथ बढ़ते हैं, छोटी अवधि की कमी और दुर्घटनाएं होती हैं। यदि आपके पास धनराशि की आवश्यकता होने से पहले कुछ साल हैं, तो आप अपने पोर्टफोलियो को उच्च-जोखिम, उच्च-प्रतिफल निवेश विकल्पों में उजागर कर सकते हैं। युवा पीढ़ी जिनके पास अपनी सेवानिवृत्ति तक पहुंचने से पहले कई दशक होते हैं, वे शायद अधिक जोखिम उठा सकते हैं। एक उच्च-जोखिम, उच्च-वापसी निवेश रणनीति में स्टॉक्स और क्रिप्टो सीएफडी शामिल होगी।

जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती हैं, आपकी रणनीति कम जोखिम, काम वापसी प्रोफाइल में बदल सकती है। मुद्रा और कमोडिटी बाजार अत्यधिक तरल हैं, और ३० से ६० वर्ष की आयु के बीच व्यापारियों के लिए ज्यादा उपयुक्त है। यह एक ऐसा समय भी हो सकता है जब आप अपने स्टॉक होल्डिंग्स को कम करना चुनते हैं। याद रखें, यहां कोई सेट फॉर्मूला नहीं है; यह सब आपके वर्तमान वित्त, आपके दीर्घकालिक वित्तीय लक्ष्यों और आपके जोखिम सहिष्णुता पर निर्भर करता है।

कोई व्यक्ति जो ३० साल के समय सीमा के साथ निवेश कर रहा है, वह इंतजार कर सकता है, और समय के साथ संचयी लाभ का आनंद ले सकते हैं। और कोई जो ५ साल के लक्ष्य के साथ निवेश कर रहा है, शायद एक 'सुरक्षित' निवेश का चयन करना चाहेगा। इन दोनों का मूल्य में समान वृद्धि की संभावना नहीं हो सकता।

यदि आप निवेश जोखिम के बारे में चिंतित हैं, तो ट्रेडिंग का परीक्षण करने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है डेमो ट्रेडिंग खाता खोलना। डेमो खाता के साथ, आप लाइव मार्केट डेटा का इस्तेमाल सकते हैं और वास्तविक ट्रेडिंग और निवेश प्लेटफॉर्म का जोखिम मुक्त उपयोग कर सकते हैं। अपने स्वयं के पैसे का निवेश करने के बजाय, आपके पास एक आभासी खाता शेष होगा जिससे आप यह देखेंगे की निवेश कैसे करते हैं और वो कैसे बढ़ता है!

नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करके आज ही अपना निःशुल्क डेमो खाता प्राप्त करें।

एक डेमो खाता खोलें

⭕ आपको कब निवेश करना शुरू करना चाहिए?

एक पुरानी चीनी कहावत है:

"पेड़ लगाने का सबसे अच्छा समय २० साल पहले था। और दूसरा सबसे अच्छा समय है आज।"

जब शुरुआती लोगों के निवेश की बात आती है, तो संचयी रिटर्न की शक्ति के कारण जल्द से जल्द निवेश शुरू करना सबसे अच्छा है।

हालांकि, अगर आपने अभी तक शुरुआत नहीं की है, तो घबराने की जरूरत नहीं है। आज ही सबसे अच्छा समय है। बस: जितनी जल्दी आप शुरू करते हैं, उतनी ही जल्दी आप चक्रवृद्धि रिटर्न से लाभ लेना शुरू कर सकते हैं, और उन वापसी को आप लंबी अवधि तक जमा कर सकते हैं।

जब निवेश करने के लिए पर्याप्त पैसा बचाने की बात आती है, तो हमेशा एक अच्छा विचार है कि आपातकालीन निधि को अलग रखा जाए, बस कुछ अनपेक्षित होने की स्थिति में। यह राशि आपके जोखिम सहिष्णुता और वित्तीय स्थिति के आधार पर सभी के लिए अलग-अलग होगी - लेकिन आम तौर पर आपके तीन महीने के खर्च एक अच्छा निधि है।

यदि आपने तीन महीनों के लिए अपने आप को समर्थन करने के लिए पर्याप्त धनराशि बचाई है, तो शायद यह सही समय है कि आप अपने धन को बेहतर उपयोग में लाएं।

यह हमें अगले सवाल पर लाता है - आप कैसे शुरू कर सकते हैं?

⭕शुरुवाती Niveshak के लिए निवेश कैसे शुरू करें?

अब जब हमने आपको nivesh के 'क्यों', 'कब' और 'कितना' से परिचित कराया है, तो अगला कदम यह है कि आप कैसे निवेश शुरू कर सकते हैं। खुश ख़बरी यह है कि पहले से अब कहीं अधिक ऑनलाइन निवेश विकल्प हैं, जिसका अर्थ है कि आप एक निवेश खाता बना सकते हैं और आज ही निवेश करना शुरू कर सकते हैं।

चलिए अब निवेश प्रक्रिया को देखते हैं!

चरण १: एक निवेश खाता बनाएँ

स्टॉक, बॉन्ड, कमोडिटीज और क्रिप्टोकरेंसी जैसी परिसंपत्तियों में निवेश करने के लिए, आपको एक ब्रोकर के साथ एक खाते की आवश्यकता होगी जो आपके द्वारा निवेश किए जाने वाले उपकरणों की पेशकश करता है।

कुछ ब्रोकर लाइव और डेमो दोनों खातों की पेशकश करेंगे। एक लाइव खाता वह है जहां आप अपने स्वयं के धन के साथ निवेश करते हैं, जबकि एक डेमो खाता आपको निवेश मंच के बारे में महसूस करने और बाजारों में काम करने में मदद करने के लिए आभासी धन का उपयोग करने देता है।

चलिए देखते हैं आप एडमिरल मार्केटस के साथ निवेश खाता कैसे खोल सकते हैं:

१. एक ट्रेडिंग रूम का खाता बनाएँ। ट्रेडर रूम एक डैशबोर्ड है जहां आप अपने लाइव और डेमो खाता, जमा और खर्च की निधि और ट्रेडिंग सॉफ्टवेयर डाउनलोड कर सकते हैं।

२. आपको अपने खाते के विवरण के साथ एक ईमेल मिलेगा - अपने खाते को सक्रिय करने के लिए उसमे दिए गए लिंक पर क्लिक करें।

३. जब आपका खाता सक्रिय हो जाए, तो यहां लॉग इन करें

४. लाइव खाते के लिए अपना आवेदन शुरू करने के लिए 'ओपन लाइव अकाउंट' बटन पर क्लिक करें, या एक डेमो अकाउंट खोलने के लिए 'ओपन डेमो अकाउंट' बटन पर क्लिक करें।

५. आपका खाता विवरण आपको ईमेल कर दिया जाएगा, साथ ही आपके ट्रेडर के रूम डैशबोर्ड में उपलब्ध होगा (यह डेमो अकाउंट तुरंत उपलब्ध होगा, और आपके आवेदन के बाद लाइव खाते की समीक्षा की जाएगी)।

चरण २: निवेश प्लेटफार्म डाउनलोड करें

ऑनलाइन निवेश करते समय सही निवेश प्लेटफार्म चुनना विचार करने वाली पहली चीजों में से एक है।

सबसे लोकप्रिय ट्रेडिंग और निवेश प्लेटफॉर्म मेटाट्रेडर ५ है, जो एक ही सॉफ्टवेयर के द्वारा बहुत सारे उपकरणों में निवेश के लिए बनाया गया है। इसका मतलब यह है कि एक ब्रोकर के साथ शेयर में निवेश, दूसरे के साथ कमोडिटीज, और तीसरे के साथ क्रिप्टोकरेंसी मे निवेश करने के बजाय, आप हजारों बाजारों में एक सॉफ्टवेयर के साथ निवेश कर सकते हैं।

अच्छी खबर यह है कि मेटाट्रेडर ५ बिल्कुल मुफ्त उपलब्ध है। इसे इस्तेमाल करने के तरीका जानने के लिए नीचे दिए गए वीडियो देखें।

चरण ३: उन बाजारों को चुनें जिनमें आप निवेश करना चाहते हैं

अब जब आपके पास एक निवेश खाता और एक ट्रेडिंग और निवेश प्लेटफार्म है, तो आप सोच रहे होंगे paisa invest kaha kare?

ट्रेडिंग और निवेश के लिए कई प्रकार की संपत्तियां और बाज़ारें उपलब्ध हैं जो आपको दुविधा मे डाल सकता है। इसलिए इनमें से प्रत्येक के अच्छे और बुरे चीज़ों का जानना ज़रूरी है।

इस invest in hindi लेख में हमने इसके बारे में विस्तारित चर्चा की है। पढ़ते रहें।

मेटा ट्रेडर ५ डाउनलोड करें

⭕ Paisa Invest Kaha Kare

दुनिया में बहुत सारे निवेश के प्रकार है। कोई भी niveshak को अपना पैसा एक ही जगह नहीं रखना चाहिए। बल्कि कई सारे संपत्ति बर्गो में बांटना चाहिए।

निवेश के प्रकार मूल रूप से दो प्रकार के होते हैं:

♦️ उत्पादक संपत्तियां: जो ऐसे निवेश हैं जो आय का भुगतान कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, एक किराये में दी गयी संपत्ति किराए के रूप में आय का भुगतान करेगी, शेयर लाभांश का भुगतान कर सकते हैं, आदि।

♦️ गैर-उत्पादक संपत्तियां: जो आय उत्पन्न नहीं कर सकते। निवेशक इन्हें चुनते हैं क्योंकि उनका मानना है कि समय के साथ उनका मूल्य बढ़ेगा, और फिर वे उन्हें लाभ पर बेच सकते हैं।

पोर्टफोलियो बनाने में दोनों प्रकार की संपत्ति का मूल्य होता है। आने वाले वर्गों में, हम आज के कुछ सबसे लोकप्रिय निवेशों - स्टॉक, ईटीएफ, फॉरेक्स, क्रिप्टोकरेंसी, कमोडिटीज, बॉन्ड और रियल एस्टेट को रेखांकित करेंगे।

✳️ शेयर

एक स्टॉक सार्वजनिक रूप से सूचीबद्ध कंपनी का एक टुकड़ा है, या एक भाग के स्वामित्व का प्रतिनिधित्व करता है। क्योंकि आप कंपनी में स्वामित्व रखते हैं, इसी लिए स्टॉक या शेयर को कभी-कभी 'इक्विटी' भी कहा जाता है।

नियोजित कंपनियां व्यावसायिक गतिविधियों के लिए धन जुटाने के तरीके के रूप में स्टॉक और शेयर जारी करती हैं। जब आप एक शेयर खरीदते हैं, तो आप उस कंपनी के मालिकों में से एक बन जाते हैं, जिसका मतलब है कि आप कंपनी की कमाई और संपत्ति पर दावा कर सकते है।

स्टॉक का मूल्य कंपनी के प्रदर्शन से जुड़ा हुआ है। आम तौर पर, यदि व्यवसाय अच्छा प्रदर्शन कर रहा है, तो शेयर की कीमत बढ़ जाएगी। यदि कोई कंपनी खराब प्रदर्शन कर रही है, तो शेयर की कीमत घट जाएगी। एक सामान्य नियम के रूप में, समय के साथ-साथ संपूर्ण बाजारों में स्टॉक बढ़ जाता है, हालांकि, व्यक्तिगत कंपनियां और स्टॉक घट सकते हैं या विफल भी हो सकते हैं।

शेयरों से संभावित कमाई के दो तरीके हैं। यदि जब कीमतें कम होती हैं, तब आप शेयर खरीदते हैं और जब कीमतें बढ़ी हैं तो बेचते हैं, तो आप लाभ कमाएंगे। इसे पूंजी लाभ के रूप में जाना जाता है। इसके लिए निवेशक तेजी से बढ़ने वाली कंपनियों की पहचान करने का प्रयास करते हैं।

कमाई का दूसरा तरीका लाभांश भुगतान के माध्यम से है। जब आप किसी कंपनी के शेयर खरीदते हैं, तो आप उस कंपनी द्वारा किए गए मुनाफे में हिस्सेदारी के हकदार होते हैं। यह एक लाभांश के रूप में जाना जाता है, जो निवेशकों के लिए आय की एक नियमित धारा प्रदान कर सकता है। सबसे लोकप्रिय रूप से कारोबार किए गए शेयर अपने संबंधित उद्योगों के प्रमुख नेताओं के हैं। दुनिया के कुछ प्रसिद्ध कंपनिययां जो ऐसा कर सकते हैं उनमें शामिल है:

✔️ कोका-कोला कंपनी (KO)

✔️ वॉल-मार्ट स्टोर्स (WMT)

✔️ जनरल इलेक्ट्रिक कंपनी (GE)

✔️ आईबीएम कॉर्प (आईबीएम)

✔️ मैकडॉनल्ड्स कॉर्प (MCD)

✔️ एप्पल इंक (AAPL)

शुरुआती निवेशकों के लिए चुनौतियों में से एक यह चुनना है कि कौन से शेयर अच्छा प्रदर्शन करेंगे। इस कारण से, कई नए व्यापारी और निवेशक एक स्टॉक एक्सचेंज के सूचकांकों का व्यापार करते हैं, जो पूरे बाजार का प्रतिनिधित्व करते हैं।

उदाहरण के लिए, यूके में, लंदन स्टॉक एक्सचेंज वह स्थान है जहाँ सार्वजनिक सीमित कंपनियों के साथ-साथ अन्य उपकरणों, जैसे कि डेरिवेटिव और सरकारी बॉन्ड का कारोबार किया जाता है। यूके स्टॉक मार्केट इंडेक्स इस एक्सचेंज से मूल्यों का प्रतिनिधित्व करता है। लंदन स्टॉक एक्सचेंज में सबसे लोकप्रिय सूचकांक FTSE 100 में एक्सचेंज के सार्वजनिक रूप से कारोबार करने वाली शीर्ष १०० कंपनियों में शामिल है।

इन्वेस्टमेंट के तरीके में से सूचकांकों में ट्रेडिंग का एक लाभ यह है कि क्योंकि आप समग्र रूप से बाजार पर कारोबार कर रहे हैं, आप लंबी अवधि के रुझानों से लाभान्वित हो सकते हैं, और व्यक्तिगत शेयरों के कमजोर प्रदर्शन आपको ज़्यादा प्रभाव नहीं करेंगे। नकारात्मक पक्ष यह है कि जब शेयर बाजार में कोई विशेष शेयर बहुत ज़्यादा ऊपर जाता है, तो आपको उसका पूरा फायदा नहीं मिलेगा, क्योंकि प्रदर्शन बाजार के बाकी हिस्सों के प्रदर्शन भी मायने रखेगा।

दुनिया के अन्य लोकप्रिय सूचकांकों में शामिल हैं:

DAX30 - जर्मनी की ३० सबसे बड़ी और सबसे तरल कंपनियों का प्रतिनिधित्व करता है

✅ S&P500 - अमेरिका में ५०० सबसे बड़ी सूचीबद्ध कंपनियों का प्रतिनिधित्व करता है

✅ CAC40 - यूरोनेक्स्ट पेरिस पर १०० सबसे बड़े पूंजीकरणों में से ४० सबसे महत्वपूर्ण शेयरों का प्रतिनिधित्व करता है

DJI 30 - डॉव जोन्स इंडस्ट्रियल एवरेज अमेरिका में सबसे बड़ी सूचीबद्ध कंपनियों में से ३० का प्रतिनिधित्व करता है

भारत में बैठके दुनिया के प्रमुख शेयर में निवेश करना चाहते हैं? एडमिरल मार्केट्स के साथ आप अपने घर पे बैठके इन सभी स्टॉक एक्सचेंज पर ऑनलाइन शेयर ट्रेडिंग कर सकते हैं। बस नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें और शुरू हो जाएं!

शेयर में निवेश करें

✳️ एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ईटीएफ)

वित्तीय बाजारों में पैसा लगाने का एक और तरीका है ईटीएफ या एक्सचेंज ट्रेडेड फंड। ETF एक विशिष्ट उद्योग से संबंधित शेयरों का एक संग्रह है। इनका उदाहरण है वित्तीय क्षेत्र के शेयर, उभरते हुए बाजार के खनन शेयर और भी बहुत कुछ।

ईटीएफ इंडेक्स-आधारित निवेश हैं, जिनका प्रदर्शन सम्बंधित सूची या इंडेक्स पर आधारित है। इनका लक्ष्य सूचकांक के रिटर्न का नकल करना है। स्टॉक सूचकांकों के साथ साथ आप इनमे निवेश करके दीर्घकालिक वृद्धि और लाभ कमा सकते हैं।

अल्पकालिक व्यापार थोड़ा और अधिक चुनौतीपूर्ण है। हालांकि, आपको कंपनियों के एक समूह के प्रदर्शन की सटीक भविष्यवाणी करने की आवश्यकता है, यह उस समय पर भी आधारित है जब आप सोचते हैं कि बाजार में वृद्धि और गिरावट आएगी।

ब्रिटैन के बाजार में निवेश करने के लिए सबसे लोकप्रिय ईटीएफ में से कुछ हैं:

✔️ iShares Core DAX UCITS ETF (EXS1)

✔️ iShares Core FTSE 100 UCITS ETF (ISF)

✔️ LYXOR EURO STOXX BANKS DR UCITS ETF (BNKE)

✔️ Xtrackers DAX UCITS ETF (DBXD)

शेयरों की तरह, ईटीएफ को लाभ के लिए बेचने के इरादे से खरीदा और धारण किया जा सकता है। कुछ लाभांश का भी भुगतान करते हैं, जो ईटीएफ में शामिल शेयरों के लाभांश से प्राप्त होते हैं।

एडमिरल मार्केट्स के साथ आप दुनिया के प्रमुख ईटीऍफ़ में निवेश कर सकते हैं। शुरू करने के लिए बस नीचे बटन पर क्लिक करें!

ईटीऍफ़ ट्रेडिंग शुरू करें

✳️ विदेशी मुद्रा या फोरेक्स

विदेशी मुद्रा बाजार (जो फोरेक्स बाजार या FX बाजार के रूप में भी जाना जाता है) वो बाजार है जहां मुद्राओं का व्यापार होता है। विदेशी मुद्रा दुनिया का सबसे तरल बाजार है, जिसका औसत दैनिक कारोबार लगभग $ ५,३०,००० करोड़ है। सप्ताह में पांच दिन २४ घंटे बाजार खुले रहते हैं, जिससे कई शौकीन व्यापारियों को भाग लेने का अवसर मिलता है। लेनदेन की लागत आम तौर पर कम होती है और विदेशी मुद्रा निवेश के लिए कीमत में निर्मित होती है। खरीद और बिक्री मूल्य के बीच का अंतर को प्रसार के रूप में जाना जाता है।

शेयर बाजार के विपरीत, विदेशी मुद्रा में बढ़ती और गिरती कीमतों दोनों से लाभ उठाना संभव है। ऐसा इसलिए है क्योंकि जब किसी मुद्रा की कीमत मूल्य में गिरती है, तो उसे दूसरी मुद्रा के मुकाबले मापा जाता है। इसका मतलब यह है कि बाद वाला पूर्व के खिलाफ उगता है। आप एक मुद्रा जोड़ी पर लॉन्ग जा सकते हैं जिसे आप मानते हैं कि मूल्य में वृद्धि होने जा रही है; और आप एक जोड़ी पर शार्ट जा सकते हैं, जिसमे आपको मूल्य में गिरावट की उम्मीद है।

विभिन्न प्रकार के विदेशी मुद्रा जोड़े हैं - 'फॉरेक्स मेजर', 'फॉरेक्स माइनर्स' और 'फोरेक्स एक्सोटिक' शामिल हैं।

बाजार में सबसे अधिक तरल मुद्रा जोड़े हैं:

✔️ GBPUSD

✔️ EURUSD

अन्य महत्वपूर्ण मुद्रा जोड़े हैं:

✔️ USDCHF

✔️ USDJPY

एक मुद्रा व्यापारी के रूप में, आपको प्रमुख कारकों के बारे मे खबर रखना होगा जो मूल्य आंदोलनों को निर्धारित करते हैं, जैसे कि राजनीतिक और आर्थिक स्थिरता, मौद्रिक नीतियां, मुद्रा हस्तक्षेप, और प्राकृतिक आपदाओं जैसे अन्य कारक। इसके लिए, आपको विदेशी मुद्रा समाचारों के बारे में अद्यतन रहना होगा। आपको विदेशी मुद्रा कैलेंडर जैसे उपकरणों का उपयोग करने की भी आवश्यकता होगी, और आपको विदेशी मुद्रा संकेतों और विदेशी मुद्रा चार्ट तक पहुंच की आवश्यकता होगी। ये सभी आपको उच्च प्रदर्शन वाले फोरेक्स मुद्रा जोड़े की पहचान करने में मदद करेंगे।

विदेशी मुद्रा के बारे में और विस्तार से जानना चाहते हैं? तो हम आपको हमारी लेख ' What Is Forex? - 2020 का गाइड' पढ़ने का सलाह देंगे।

क्या आप जानते हैं की एडमिरल मार्केट्स एक विनियमित ब्रोकर है जिसके साथ आप दुनिया के प्रमुख मुद्रा जोड़ियों पर ट्रेडिंग और निवेश कर सकते हैं।

विदेशी मुद्रा के दुनिया में अपनी यात्रा शुरू करने के लिए बस नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें!

फोरेक्स ट्रेडिंग शुरू करें

✳️ क्रिप्टोकरेंसी

क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करना बेहद रोमांचक हो सकता है। क्रिप्टोकरेंसी ट्रेडिंग अब मुख्यधारा बन गई है, विशेष रूप से २०१७ में इस बाजार की अभूतपूर्व वृद्धि के बाद। लेकिन, २०१८ और २०१९ में अत्यधिक अस्थिरता के साथ, इसने कुछ निवेशकों को सावधान कर दिया है - विशेष रूप से शुरुआती निवेशकों को।

बिटकॉइन इसमें सबसे आगे है, और अन्य सभी क्रिप्टो को ऑल्टकॉइन (या बिटकॉइन के विकल्प) के रूप में जाना जाता है। वर्तमान में क्रिप्टोकरेंसी बाजार पूंजीकरण $ २५००० करोड़ से अधिक है, बिटकॉइन की मार्केट कैप लगभग १४५०० करोड़ डॉलर है। डिजिटल परिसंपत्ति वर्ग के अधिक से अधिक मुख्यधारा को अपनाने के साथ, आने वाले वर्षों में क्रिप्टो बाजार मूल्य वृद्धि के लिए तैयार है।

निवेश की संभावनाओं के संदर्भ में, आप एक निवेश के रूप में क्रिप्टो सिक्के खरीद सकते हैं। जब बाजार में वृद्धि होती है तो उन्हें उच्च कीमत पर बेचने का लक्ष्य रखिये।

हालांकि, सीऍफ़डी जैसे डेरिवेटिव के साथ, आप अल्पकालिक अस्थिरता पर भी लाभ कमा सकते हैं। एक दीर्घकालिक निवेश के रूप में किसी संपत्ति को खरीदने के बजाय, आप इस बात पर निर्णय ले सकते हैं कि क्या आपको लगता है कि संपत्ति मूल्य में वृद्धि होगा? फिर आप उस पर एक व्यापार खोलने का विकल्प चुन सकते हैं - एक लॉन्ग व्यापार यदि आपको लगता है कि मूल्य में वृद्धि होगी, या एक शार्ट व्यापार अगर आपको लगता है कि यह घट जाएगा।

जब आप कोई व्यापार को बंद करने का सिद्धांत लेते हैं, तो आप तब लाभ कमाते हैं। या जब आप व्यापार खोलते हैं, तो परिसंपत्ति की कीमत और संपत्ति की कीमत के बीच अंतर के आधार पर नुकसान होता है।

सीएफडी, या कॉन्ट्रैक्ट्स फॉर डिफरेंस, एक उपकरण है जिसका उपयोग आप अल्पकालिक ट्रेडों को खोलने के लिए कर सकते हैं, यह सब अंतर्निहित संपत्ति को खरीदे बिना कर सकते हैं! इसका मतलब है कि आपको व्यापार करने के लिए अधिक पूंजी की आवश्यकता नहीं है। हालांकि, इस प्रकार का निवेश लंबी अवधि के खरीद-और-पकड़ दृष्टिकोण की तुलना में अधिक क्रियाशील होता है। इसलिए इसे आप खोलकर भूल नहीं सकते हैं।

सबसे अधिक कारोबार वाले क्रिप्टो जोड़े हैं:

✔️ BTC/USD (बिटकॉइन बनाम यूएस डॉलर)

✔️ BCH / USD (बिटकॉइन कैश बनाम यूएस डॉलर)

✔️ ETH/USD (इथेरियम बनाम यूएस डॉलर)

✔️ LTC / USD (अमेरिकी डॉलर के विपरीत)

✔️ XRP/USD (रिपल बनाम यूएस डॉलर)

ध्यान रखें कि ऑनलाइन एक्सचेंजों पर क्रिप्टो ट्रेडिंग एक उच्च सुरक्षा जोखिम पैदा करता है। यदि आप आभासी परिसंपत्तियों के साथ व्यापार करना चाहते हैं, तो क्रिप्टो सीएफडी में निवेश करने की सिफारिश की जाती है, जहां आप अंतर्निहित परिसंपत्ति के मालिक होने के बिना, बढ़ते और गिरते बाजारों दोनों में स्थिति ले सकते हैं।

एडमिरल मार्केट्स व्यापारियों को क्रिप्टोकरेंसी पर कई अलग-अलग सीएफडी पर व्यापार करने की क्षमता प्रदान करता है, जिनमें से कुछ ऊपर सूचीबद्ध हैं।

क्या आप भारत में बैठके क्रिप्टोकरेंसी में निवेश का सही रास्ता ढूंढ रहे हैं? तो एडमिरल मार्केट्स को क्यों न आज़माएं? यह एक वैश्विक ब्रोकर है जिसके पास क्रिप्टोकरेंसी में सालों का तजुर्बा है। और यह हिंदी में ग्राहक सेवा भी प्रदान करता है।

तो देर न करें। बस नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर आज ही निवेश शुरू करें!

ट्रेडिंग शुरू करें

✳️ कमोडिटी या वस्तुएं

यह कच्चे माल हैं जैसे के कृषि उपज जैसे अनाज, मक्का और कपास; सोना, चांदी, तांबा और जस्ता जैसी धातुएं; या ऊर्जा वस्तुओं, जैसे कच्चे तेल, प्राकृतिक गैस और प्रोपेन। वे अलग-अलग एक्सचेंजों पर कारोबार करते हैं। और इनके लिए विशेष एक्सचेंज भी हैं। उदाहरण के लिए, लंदन मेटल एक्सचेंज केवल धातु की वस्तुओं का वहन करता है।

सबसे अधिक कारोबार वाली वस्तुएं हैं:

सोना

✅ चांदी

पेट्रोलियम

✅ प्राकृतिक गैस

पोर्टफोलियो विविधीकरण के लिए कमोडिटीज एक अच्छा संपत्ति विकल्प हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि आम तौर पर अन्य प्रमुख परिसंपत्ति वर्गों के रिटर्न के साथ वस्तुओं का रिटर्न का नकारात्मक सहसंबंध होता है। उदाहरण के लिए, जब इक्विटी और बॉन्ड मूल्य में गिरावट होती हैं, तो वस्तुओं की कीमत बढ़ जाती है। स्टॉक और बॉन्ड मार्केट को प्रभावित करने वाले कारकों का कमोडिटी पर कोई असर नहीं हो सकता है। इसलिए, एक पोर्टफोलियो जिसमें आमतौर पर कमोडिटीज शामिल होती हैं, उनमें कम अस्थिरता होती है।

मुद्रास्फीति संरक्षण के रूप में भी वस्तुओं का उपयोग किया जाता है। मुद्रास्फीति के कारण मुद्रा का मूल्यह्रास होता है, जिसके परिणामस्वरूप स्टॉक और बॉन्ड जैसे वित्तीय परिसंपत्तियों के वास्तविक मूल्य का क्षरण होता है। दूसरी ओर, मुद्रास्फीति कमोडिटी की कीमतों में वृद्धि का कारण बनती है। कुछ वस्तुओं, जैसे सोना और चांदी को एक सुरक्षित निवेश माना जाता है। भू-राजनीतिक अनिश्चितताओं, प्राकृतिक आपदाओं और आर्थिक संकटों का अधिकांश वित्तीय परिसंपत्तियों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। ऐसे समय में, निवेशक सोने और चांदी जैसी वस्तुओं अपनाते है, जिसके परिणामस्वरूप उनकी कीमतों में वृद्धि होती है।

क्रिप्टोकरेंसी की तरह, आप भौतिक संपत्ति खरीदकर वस्तुओं में निवेश कर सकते हैं। हालांकि, यह उच्च कीमतों, भंडारण चिंताओं और भी बहुत सारे कारणों के लिए अधिकांश निवेशकों के लिए सबसे व्यावहारिक दृष्टिकोण नहीं है। इसके बजाय, अधिकांश निवेशक सीएफडी जैसे डेरिवेटिव के माध्यम से और व्यापार वस्तुओं में निवेश करते हैं।

कमोडिटीज के बारे में और भी गहराई से जानने के लिए हमारी लेख Commodity trading कैसे शुरू करें: कमोडिटी मे शुरुआती के लिए के एक गाइड पढ़ें।

कमोडिटीज में निवेश करना शुरू करने के लिए आज ही नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें!

वस्तुओं में निवेश करें

✳️ बॉन्ड

तो, बॉन्ड क्या हैं? शेयरों, कंपनियों, सरकारों और उनकी एजेंसियों पूंजी जुटाने के लिए बॉन्ड जारी करते हैं।

बॉन्ड और शेयरों के बीच कुछ अंतर है:

बराबर मूल्य (पार वैल्यू): यह एक बॉन्ड का अंकित मूल्य है जो एक निश्चित दर है। यह बॉन्ड के बाजार मूल्य से भिन्न (अधिक या कम हो सकता है) हो सकता है, जो ब्याज दरों और बॉन्ड की क्रेडिट स्थिति जैसे कारकों के आधार पर निश्चित किया जाता है।

ब्याज दर: बॉन्ड की एक ब्याज दर होती है, जो बॉन्ड के धारक को भुगतान की जाती है।

✅ परिपक्वता तिथि: यह वह तिथि है जिस पर बॉन्ड देय हो जाता है, जिसका अर्थ है कि प्रारंभिक निवेश निवेशक को वापस भुगतान किया जाता है।

एक बॉन्ड जारीकर्ता से बॉन्ड बराबर मूल्य पर खरीदा जाता है; और जारीकर्ता समय-समय पर उन लोगों को ब्याज देता है जो इनमें निवेश करते हैं। परिपक्वता तिथि पर, जारीकर्ता को बॉन्ड वापस करना पड़ता है और जारीकर्ता को निवेशक को बराबर मूल्य का भुगतान करने की आवश्यकता होती है।

निवेशकों के लिए मुख्य लाभ यह है कि बांड निश्चित-आय भुगतान (ब्याज भुगतान) प्रदान करते हैं। कई सरकारी बॉन्ड कर मुक्त भी होते हैं, जिसका अर्थ है कि ब्याज आय को करों से मुक्त किया जाता है, इसलिए किसी को दोहरा लाभ मिलता है।

बॉन्ड के द्वारा निवेशकों पोर्टफोलियो विविधीकरण करते हैं। यह पोर्टफोलियो मे जोखिम को कम करके उसका जोखिम संतुलन भी बनाये रखता है। शेयर की तरह ही, बॉन्ड अत्यधिक तरल होते हैं।

व्यापारी बॉन्ड सीएफडी में भी निवेश कर सकते हैं, क्योंकि इससे उन्हें मार्जिन के कारण छोटे मूल्य आंदोलनों का लाभ उठाने की अनुमति मिलती है। बॉन्ड सीएफडी के साथ, व्यापारियों को बांड के परिपक्व होने की प्रतीक्षा करने की आवश्यकता नहीं है, क्योंकि उनका व्यापार मूल्य में उतार-चढ़ाव पर आधारित है।

बॉन्ड सीऍफ़डी के सबसे आम प्रकार है:

✔️ 10 वर्षीय जर्मनी बुंड फ्यूचर्स सीऍफ़डी (Bund)

✔️ 10-वर्षीय अमेरिकी ट्रेजरी नोट वायदा सीऍफ़डी (USTNotee)

बॉन्ड में निवेश करें

✳️ अचल संपत्ति (रियल एस्टेट)

अचल संपत्ति शायद दुनिया के सबसे लोकप्रिय प्रकार के निवेश में से एक है। वास्तव में, बहुत से लोगों के लिए उनके संचय का थोक हिस्सा अचल संपत्ति में होता है - आमतौर पर उनके परिवार का घर।

रियल एस्टेट एक लोकप्रिय निवेश है क्योंकि, शेयर और डेरिवेटिव के विपरीत, जो कि अवधारणा के लिए मुश्किल हो सकता है, इसमें आपको पता है कि आपको अपने पैसे के लिए क्या मिल रहा है - जमीन का एक टुकड़ा, एक घर या एक फ्लैट।

अचल संपत्ति को किराए मिलने के लिए, आय उत्पन्न करने या लाभ के लिए बेचने के लिए खरीदा जा सकता है। वे भी लीवरेज्ड निवेश हैं, जिसका अर्थ है कि आप एक बड़ी संपत्ति में अपेक्षाकृत कम जमा के साथ निवेश कर सकते हैं। घर खरीदने के लिए लोन का ब्याज आमतौर पर ८% और २०% के बीच होता है।

इसलिए यह एक निवेश के रूप में आकर्षक है।

हालांकि अचल संपत्ति खरीदने के लिए एक संपत्ति के मूल्य के अग्रिम का केवल एक छोटा सा प्रतिशत खर्चा करना पड़ता है, संपत्ति की कीमतें कई क्षेत्रों में इतनी अधिक हो गई हैं कि इस बाजार मे प्रवेश करना काफी मुश्किल है।

रियल एस्टेट इन्वेस्टमेंट ट्रस्ट्स या REIT एक अच्छा निवेश विकल्प है अचल संपत्ति में पैसा लगाने के लिए। यह आपको एक तरह से रियल एस्टेट में निवेश करने की अनुमति देता है।

REIT एक ऐसी कंपनी है जो रियल एस्टेट में निवेश करती है और संपत्तियों के पोर्टफोलियो का प्रबंधन करती है। निवेशक REIT में शेयर खरीद सकते हैं, और REIT शेयरधारकों को आय का भुगतान करता है। यह आय संपत्ति के प्रकार पर निर्भर करती है।

निचे दिए गए उपकरण इसमें शामिल हो सकते हैं:

• रिटेल REIT: शॉपिंग सेंटर में किरायेदारों से किराया
• कार्यालय REIT: कार्यालय भवनों से किराया
• आवासीय REIT : अपार्टमेंट इमारतों और अन्य आवासीय संपत्तियों में निवासियों से किराया

⭕ Nivesh ब्रोकर चुनते समय देखने योग्य बातें

जब आप इनमें से किसी भी संपत्ति में सीधे निवेश कर सकते हैं (उदाहरण के लिए शेयर बाजार में निवेश, संपत्ति खरीदना, क्रिप्टोकरेंसी खरीदना, आदि), तो कई शुरुआती निवेशकों के लिए ऐसा ब्रोकर के साथ काम करना सरल होता है, जो उन्हें निवेश मे मदद करते हैं। निवेश के बुनियादी बातों को समझने के साथ साथ वह जिन बाजारों में निवेश करना चाहते हैं, ब्रोकर उन तक पहुंचने में भी निवेशकों को सक्षम करते हैं।

इसका मतलब है कि आपकी निवेश यात्रा में ब्रोकर की पसंद महत्वपूर्ण है। Investment tipsin Hindi जानने के लिए ब्रोकर कैसे चुनना है यह जानना महत्वपूर्ण है:

यहाँ सही ब्रोकर चुनने के लिए कुछ सुझाव दिए गए हैं:

हमेशा एक विनियमित ब्रोकर चुनें: ब्रोकर को दुनिये के नियामकों द्वारा लाइसेंस प्राप्त होना चाहिए। उदाहरण के लिए, यूके में, दलाल को FCA (Financial Conduct Authority) द्वारा अधिकृत किया जाना चाहिए, और FCA Client Money and Assets(CASS) rules नियमों के तहत ग्राहक धन रखने और निवेश को संभालने के लिए योग्य होना चाहिए।

बाजार की एक विस्तृत श्रृंखला तक पहुंच प्राप्त करें: सुनिश्चित करें कि वो ब्रोकर बाजारों की एक विस्तृत श्रृंखला प्रदान करता है। यह आपको बेहतर निवेश निर्णय लेने के लिए पर्याप्त विकल्प प्रदान करेगा। उदाहरण के लिए, एडमिरल मार्केटस, हजारों बाजारों में व्यापार और निवेश करने का अवसर प्रदान करता है।

उनके ग्राहक सहायता की जाँच करें: क्यूंकि आप निवेश मे नए हैं, इसलिए आपको शुरू में अधिक सहायता की आवश्यकता हो सकती है। आप एक ऐसी टीम चाहंगे जो हमेशा उपलब्ध हो और पेशेवर हो। आपके द्वारा चुना गया ब्रोकर ईमेल और फोन के माध्यम से उपलब्ध होना चाहिए, और लाइव चैट सहायता भी प्रदान करनी चाहिए।

शिक्षा संसाधनों के लिए ब्रोकर की वेबसाइट ब्राउज़ करें: लेख और ब्लॉग के अलावा, क्या ब्रोकर आपके ज्ञान को बढ़ाने के लिए वेबिनार और सेमिनार आयोजित करता है? यह आपको न केवल निवेश के संदर्भ में ज्ञान प्राप्त करने में मदद करेगा, बल्कि आपको अपनी सफलता के लिए ब्रोकर की प्रतिबद्धता का भी पता लगाने में भी सहायता करेगी।

ब्रोकर की वित्तीय सुरक्षा नीतियों पर ध्यान दें: ऐसा एक ब्रोकर चुनें जो ग्राहक के धन को अपने धन से अलग रखे और नकारात्मक खाता शेष सुरक्षा प्रदान करे।

यदि आप एक ब्रोकर चुनने के लिए तैयार हैं, तो आप सही जगह पर हैं। एडमिरल मार्केट्स इन सभी मानदंड और अन्य चीजों को पूरा करता हैं, जैसे के:

✔️ दुनिया के कुछ प्रमुख वित्तीय नियामकों - FCA, EFSA, ASIC और CySEC द्वारा लाइसेंस प्राप्त

✔️ व्यापार और निवेश के लिए कई हजार वित्तीय साधन प्रदान करना

✔️ फोन, ईमेल और लाइव चैट के माध्यम से ३५ देशों में स्थानीय ग्राहक सहायता उपलब्ध। इसमें हिंदी भाषा भी शामिल है।

✔️ शैक्षिक संसाधनों की एक विस्तृत श्रृंखला की पेशकश

✔️ प्रतिस्पर्धी ट्रेडिंग और निवेश लागत

✔️ वित्तीय सुरक्षा को पर महत्व डालना

⭕ ७ Investment Tips In Hindi

अब तक आप जान चुके हैं निवेश किसे कहते हैं, आपको निवेश क्यूं करना चाहिए, कितना निवेश करना चाहिए, निवेश कितने प्रकार के होते हैं, कैसे शुरू करना चाहिए और सबसे बड़े बाजारों में कैसे आप निवेश कर सकते हैं।

अब हम आपको बताएँगे कुछ बहुत ही उपयोगी निवेश सम्भंदित टिप्स:

१. लंबी अवधि के लिए निवेश करें

ट्रेडिंग और निवेश के बीच सबसे बड़े अंतर में से एक समय सीमा है। ट्रेडिंग में आमतौर पर, व्यापारी अल्पकालिक लाभ बनाने की उम्मीद मे रहते हैं - कभी-कभी एक मिनट में भी! इसका मतलब है कि उन्हें या तो सक्रिय रूप से बाजारों की निगरानी और व्यापार करने की आवश्यकता है, या उन्हें कुछ स्वचालित ट्रेडिंग सॉफ़्टवेयर की आवश्यकता है जो उनके लिए यह कर सकते हैं।

दूसरी ओर निवेशक वर्षों या दशकों के लक्ष्य के साथ एक संपत्ति में निवेश करते हैं। यह दबाव को दूर करने में मदद करता है और आपको बाजार में अल्पकालिक डुबकी के बारे में चिंता करने की आवश्यकता नहीं होती है, क्योंकि आप जानते हैं कि वे समय के साथ ऊपर भी उठेंगे।

२. समय के साथ निवेश को बढ़ाएं

पहला टिप से जोड़ते हुए हम यह बोलेंगे के समय के साथ अपने निवेश को नियमित रूप से बढ़ाना भी महत्वपूर्ण है। जबकि कंपाउंडिंग रिटर्न की शक्ति आपके शुरुआती जमा को बढ़ाएगी, वो तबही तेज दर से बढ़ेगा जब आप नियमित रूप से इसमें पैसा भरेंगे - भले ही आप अपने पोर्टफोलियो में एक महीने में £ ५० या £ १०० ही क्यों न डाल रहे हों।

यह आपको बाज़ार के उतार-चढ़ाव का सबसे अच्छा लाभ उठाने मे भी मदद करता है। जब बाजार बढ़ता है, तो आप अधिक संपत्ति खरीदकर उस मौका का फायदा उठाते हैं। जब बाजार नीचे जाता है, तो आप अनिवार्य रूप से उन परिसंपत्तियों को छूट पर प्राप्त करते हैं, जब उनकी कीमतें कम रहते हैं। जब बाजार में फिर से वृद्धि होती है, तो आपका शुद्ध मूल्य तेजी से बढ़ेगा।

३. अपने निवेश जोखिम का प्रबंधन करें

चाहे आप स्टॉक और शेयरों में निवेश कर रहे हों, या फॉरेक्स ट्रेडिंग पर विचार कर रहे हों, या सोच रहे हों कि बिटकॉइन सीएफडी में कैसे निवेश किया जाए, कम से कम नुकसान उठाने के लिए उपयुक्त जोखिम प्रबंधन की आवश्यकता है।

चलिए निवेश या व्यापार करते समय जोखिम को प्रबंधित करने के कुछ तरीकों पर एक नज़र डालते हैं:

✔️ ट्रेंडों को अनुसरण करें: अक्सर कहा जाता है कि व्यापार आपका दोस्त है। इसलिए व्यापारियों को एक प्रमुख जोखिम प्रबंधन तकनीक पर विचार करना चाहिए।

✔️ निरंतर रहें: एक निश्चित राशि को नियमित आधार पर निवेश करना सबसे अच्छा है। इससे आपको समय के साथ बेहतर रिटर्न हासिल करने में मदद मिलेगी।

✔️ धैर्य रखें: थोड़ी सी भी गिरावट मे अपने निवेश को बाहर निकलने की न सोचें। कीमतों में कुछ उतार-चढ़ाव होगा, और आपको इसे खत्म होने और अपनी रणनीति को काम करने के लिए पर्याप्त समय देने की आवश्यकता हो सकती है।

✔️ स्टॉप लॉस का उपयोग करें: यह व्यापार करते समय जोखिम प्रबंधन की सबसे महत्वपूर्ण तकनीकों में से एक है। एक स्टॉप लॉस ऑर्डर स्वचालित रूप से आपकी परिसंपत्ति बेच देगा जब मूल्य एक निश्चित बिंदु से नीचे चला जाता है।दूसरे शब्दों में कहा जाये तो, स्टॉप लोस वही करता है जो इसके नाम से समझा जा सकता है - आपके नुकसान को रोकना।

४. अपने निवेश में विविधता लाएं

आपके निवेश जोखिम को प्रबंधित करने का एक अच्छा तरीका है आपके पोर्टफोलियो में विविधता लाना।

इसमें विभिन्न प्रकार की संपत्ति, संपत्ति वर्ग और उपकरण खरीदना शामिल है। उदाहरण के लिए, केवल शेयरों में निवेश करना काफी जोखिम भरा है, क्योंकि इसका मतलब है कि जब शेयर बाजार नीचे जाता है तो आप संभावित रूप से सब कुछ खो सकते हैं। यदि आपके पास शेयरों के इलावा, कमोडिटीज़, बांड, विदेशी मुद्रा का मिश्रण होता है - तो आप किसी भी एक बाजार के अस्थिरता से अछूते रहेंगे। आप अपने पोर्टफोलियो में विविधता लाने के लिए कुछ उच्च-जोखिम और कुछ कम-जोखिम वाली संपत्ति (जैसे शेयर और बॉन्ड) भी शामिल कर सकते हैं।

यह संभवतः जोखिम को कम करने का सबसे सरल तरीका है, क्योंकि यह एक परिसंपत्ति या परिसंपत्ति वर्ग में ज़्यादा अनावरण को कम करने का काम करता है, और आपके पोर्टफोलियो के समग्र मूल्य की रक्षा करता है। यह विधि उन संपत्तियों या परिसंपत्ति वर्गों की पहचान करने में भी मदद करती है जिनके नकारात्मक सहसंबंध हैं (जैसे दो मुद्रा जोड़े, या स्टॉक और कमोडिटी)।

५. निवेश जोखिम और वापसी का संतुलन

एक सामान्य नियम के रूप में, सबसे अधिक रिटर्न उत्पन्न करने वाली संपत्ति ही सबसे अधिक जोखिम भरा है। इसे ध्यान में रखते हुए, अपने वित्तीय लक्ष्यों और आपके निवेश समय सीमा के आधार पर अपने जोखिम और इनाम को संतुलित करना महत्वपूर्ण है।

जैसा कि हमने पहले चर्चा की है, एक लंबी अवधि के निवेश क्षितिज वाले निवेशक (सेवानिवृत्ति के लिए ३५-वर्षीय निवेश) अल्पावधि में अधिक जोखिम ले सकते हैं, केवल इसलिए कि बाजार में कोई भी चोटियां और गिरावट समय के साथ खत्म हो जाती है। बुरे साल या बुरे महीने की चपेट में आने के बजाय, वे दशक भर के रुझानों पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं।

इसके विपरीत, जो लोग कम समय के लिए निवेश कर रहे हैं (जैसे कि धार खरीदने के लिए अगले पांच वर्षों में पैसे बचाने की कोशिश करना) वो ज़्यादा जोखिम नहीं ले सकते। इसे ध्यान में रखते हुए, उनके लिए उन बाजारों को चुनना बेहतर होगा, जिनमें निवेश पर इतना अधिक रिटर्न नहीं हो सकता है, लेकिन कम समय मे वो ज़्यादा स्थिर है।

६. नियमित रूप से अपने निवेश की निगरानी करें

जबकि लंबी अवधि के निवेश का एक लक्ष्य यह है कि आप अपने पैसे को अपने निवेश में लगा सकें और उन्हें कम सक्रिय प्रबंधन के साथ समय के साथ बढ़ने दें, चीजों पर नज़र रखना महत्वपूर्ण है।

कभी-कभी कुछ बाजारों में महत्वपूर्ण परिवर्तन होते हैं जो बड़े पैमाने पर कीमतों में उतार-चढ़ाव का कारण बन सकते हैं, जैसे नियामक परिवर्तन, प्राकृतिक आपदाएं और बहुत कुछ। जब ये घटनाएँ होती हैं, तो कभी-कभी अपने निवेश जोखिम को कम करना एक अच्छा विचार होता है। आपके निवेश कैसे प्रदर्शन कर रहे हैं, इस पर नज़र रखने से यह सुनिश्चित करने में मदद मिलती है कि चीजें आपके इच्छित दिशा में चलती रहें।

७. अपने दिमाग से निर्णय लें - दिल से नहीं

अंत में, तर्क के आधार पर निवेश के निर्णय लें, भावनाओं के आधार पर नहीं। कभी-कभी बाजार अस्थिर होते हैं। कभी-कभी नए, रोमांचक रुझान होते हैं, जिसमे हर कोई अपना पैसा लगाना चाहता है।

प्रवृत्ति हमेशा नहीं चलता है। इसे ध्यान में रखते हुए, बस खरीदने या बेचने का प्रलोभन न पड़ें, क्योंकि वो हर कोई कर रहा है। जब आप निवेश के निर्णय लेते हैं, तो वे ठोस डेटा पर आधारित होने चाहिए, और आपकी निवेश रणनीति और लक्ष्यों के साथ संरेखण में होना चाहिए।

इन सभी युक्तियों को व्यवहार में लाने का सबसे अच्छा तरीका है निवेश शुरू करना। लेकिन अगर आप एक शुरुआत कर रहे हैं, और आप लाइव मार्केट में अपने पैसे का निवेश शुरू करने के लिए तैयार नहीं हैं, तो शुरू करने का एक तरीका मुफ्त डेमो खाता खोलना है।

डेमो खाता के साथ, आप विदेशी मुद्रा जोड़े, स्टॉक इंडेक्स, कमोडिटीज, क्रिप्टोकरेंसी और सीएफडी और हजारों उपकरणों का उपयोग कर सकते हैं। यह आपको यह देखने का मौका देगा कि बाजार कैसे आगे बढ़ते हैं। और यह आपको मेटाट्रेडर ५ निवेश मंच मे जोखिम मुक्त निवेश का भी स्वाद देगा!

नीचे दिए गए बैनर पर क्लिक करके आज ही आरंभ करें।

Risk free demo account

दूसरा लेख जो आपको उपयोगी लग सकता है:

How to avoid loss and earn consistently in the stock market ता की आप trading for a living कर सकें

विदेशी मुद्रा व्यापार शुरू करने के लिए minimum amount required for day trading in India

Forex vs Stocks - व्यापार करने के लिए सबसे अच्छा बाजार कौन सा है?

एडमिरल मार्केट्स एक विश्व स्तर पर विनियमित विदेशी मुद्रा और सीएफडी ब्रोकर जो बहु-पुरस्कार का विजेता है। बहुत सारे उपकारणों के इलावा एडमिरल मार्केट्स के वेबसाइ में कई सरे शिक्षा सम्बंधित लेखे है जहाँ से आपको फोरेक्स, शेयर मार्किट, निवेश और भी बहुत कुछ के बारे मेतथ्य मिलेगा। दुनिया के सबसे लोकप्रिय ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म के माध्यम से ८,००० से अधिक वित्तीय साधनों पर व्यापार की पेशकश करते हैं: मेटा ट्रेडर ४ और मेटा ट्रेडर ५ ।आज ही ट्रेडिंग शुरू करें!

इस लेख में वित्तीय उपकरणों में किसी भी लेनदेन के लिए निवेश सलाह, निवेश सिफारिशों सामग्री में शामिल नहीं है और यह प्रस्ताव या सिफारिश युक्त के रूप में नहीं होना चाहिए। कृपया ध्यान दें कि इस तरह का ट्रेडिंग विश्लेषण किसी भी वर्तमान या भविष्य के प्रदर्शन के लिए एक विश्वसनीय संकेतक नहीं है, क्योंकि समय के साथ परिस्थितियां बदल सकती हैं। किसी भी निवेश निर्णय लेने से पहले, आपको इस विषय से सम्बंधित जोखिमों को समझने के लिए स्वतंत्र वित्तीय सलाहकारों से सलाह लेनी चाहिए।



CFD जटिल इंस्ट्रूमेंट हैं और इनमें लीवरेज की वजह से तेजी से फंड का नुकसान होने का उच्च जोखिम होता है।